हमारे युवा रोल माडल

आज सुबह अखबार पढ़ते हुये दैनिक भाष्कर(जबलपुर संस्करण) के पेज 12 पर यह खबर पढ़ी! खबर का शीर्षक था- सामूहिक दुष्कर्म की शिकार शिकार लड़की से की शादी खबर इस प्रकार थी:

शिवपुरी के मनपुरा में डकैतों ने रविवार को लोध समाज की जिस लड़की से डाकुओं ने सामूहिक दुष्कर्म किया था मंगलवार को उसकी शादी हुई। दूल्हे अच्छेलाल ने अपने परिजनों से कहा कि मेरी मंगेतर पूरी तरह से निर्दोष है । इस हादसे में उसकी की क्या गलती,जो उसे सजा दी जाए। उससे शादी न करना पाप होगा। और मैं पाप कर्म नहीं करूंगा। उसके परिवार वालों ने भी उसकी बात मानी और उसके निर्णय की सराहना की।

चंबल-ग्वालियर इलाके के दौरे से लौटे सामाजिक कार्यकर्ता सचिन जैन ने बताया कि शादी मंगलवार को होनी थी। उससे दो दिन पहले रविवार को डकैतों ने दुल्हन और उसकी बहन से दुष्कर्म किया। जब इसकी खबर दूल्हे अच्छेलाल को हुई तो उसने तय कार्यक्रम के मुताबिक ही शादी करने का फैसला किया अच्छेलाल ग्यारहवीं तक पढ़ा है और खेती करता है। उसने कहा, ‘बलात्कार के लिए लड़की तो जिम्मेदार नहीं है। अब मेरा फर्ज था कि शादी करके न्याय के लिए मिलकर संघर्ष करें।’

खबर पढ़कर लगा अच्छेलाल कितना सहज-समझदार लड़का है। ग्याहरवीं पास लड़के की समझ एकदम साफ़ है कि लड़की से दुष्कर्म हुआ तो उसमें लड़की का कोई दोष नहीं है। उसने अपने मंगेतर से शादी आगे न्याय के लिये संघर्ष को अपना फ़र्ज माना और लड़की से शादी की।

आसपास होता तो जरूर अच्छेलाल और उसकी पत्नी से मिलने जाते। उसका फ़ोटो खींचते , सबको दिखाते!

ऐसे लड़के हमारे समाज के रोल माडल बन सकते हैं मीडिया को इनका खूब प्रचार-प्रसार करना चाहिये। लेकिन मीडिया को सैफ़ अली से हुई मारपीट के किस्से दिखाने से ही फ़ुर्सत नहीं मिल पाती। एक साधारण अभिनेता द्वारा की गयी बदतमीजी को मीडिया इत्ता भाव देता है यह उसकी मानसिक समझ का आईना है।

ऐसे ही कुछ दिन पहले एक किस्सा कानपुर के पास कन्नौज जिले एक गांव में हुआ था। एक लड़की की शादी तय हो गयी थी। लड़की के पिता दहेज के लिये पैसा नहीं जुटा पा रहे थे। तीन साल शादी तय हुये हो गये थे। लड़की के पिता की फ़सल लगातार खराब जा रही थी। पैसे का जुगाड़ न हो पाया। आखिर में उन्होंने जमीन बेचकर लड़की की शादी की योजना बनायी। खेत का सौदा कर लिया और खेत बेचने की कार्रवाई शुरु कर दी।

इस बीच लड़की की अपने मंगेतर से फोन पर बातचीत होने लगी थी। दोनों के गांव आसपास ही थे। उसने एक दिन मोबाइल पर अपने मंगेतर को जानकारी दी कि पिताजी शादी के लिये खेत बेचने वाले हैं। लड़के ने जैसे ही सुना वैसे ही अपनी मोटरसाइकिल से लड़की के घर पहुंचा। उसको अपनी मोटरसाइकिल पर बैठाकर अपने घर चाचा के घर लाया। उसी दिन चाचा के घर मंडप गड़ा और दोनों के फ़ेरे हो गये। लड़की के पिता के खेत बिकने से बच गये।

इतिहास में हम संयोगिता स्वयंवर की कहानी पढ़ते हैं। संयोगिता को पृथ्वीराज अपने घोड़े पर बिठा के ले आये थे। आज के हमारे युवा पृथ्वीराज मोटरसाइकिल पर अपनी मंगेतर को ले आये।

आज के जमाने में हर तरफ़ दहेज हत्या और महिलाओं पर संदेह के चलते उनकी हत्याओं के किस्से आम हो गये हैं ऐसे समय में समाज इन युवाओं के व्यवहार बताते हैं समाज में अच्छी समझ वाले लोग भी हैं।

ये युवा ही हमारे समाज के रोल माडल हो सकते हैं।

48 responses to “हमारे युवा रोल माडल”

  1. MRIGANK AGRAWAL

    ऐसे लोगों की तारीफ़ के लिए शब्द काफी नहीं ,पर हम ये तो बोल सकते है ,”शाबाश “

  2. वििवेक सिंह

    शाबाश !

  3. Kajal Kumar

    लेक‍िन पत्रकार‍िता में पैठ बनाए हुए लोगों के रोल मॉडल कौन हैं ये बात भी साफ द‍िखाई देती है…

  4. प्रवीण पाण्डेय

    निश्चय ही दोनों रोल मॉडल हैं, जितनी प्रशंसा की जाये, उतनी कम है…
    प्रवीण पाण्डेय की हालिया प्रविष्टी..परीक्षा

  5. ePandit

    प्रशंसनीय
    ePandit की हालिया प्रविष्टी..बीऍसऍनऍल लाया तीन सस्ते टैबलेट, कीमत ₹ ३,२५० से शुरु

  6. vijay gaur

    यक़ीनन इसी खबरें बार बार दिखाई जानी चाहिए | सुंदर पोस्ट है|
    vijay gaur की हालिया प्रविष्टी..सहमति और असहमति जताती दृढ़तायें

  7. देवेन्द्र पाण्डेय

    जैसा नाम वैसा गुण। कितना अच्छा है अच्छेलाल! ईश्वर दोनो की जिंदगी खुशियों से भर दे..समाज अच्छेलाल को ही रोल मॉडल माने..सुख से जीने दे। कानपुर वाला युवक भी हीरो है।

  8. sanjay

    आज ही अच्छेलाल वाली खबर अखबार में पढी थी, कन्नौज वाले आधुनिक पृथ्वीराज ने भी सही जगह बहादुरी दिखाई|
    सही कहते हैं आप ऐसे ही लोग रोल मॉडल होने चाहिए|
    sanjay की हालिया प्रविष्टी..जाग जाग, रुक रुक…….

  9. भारतीय नागरिक

    वाकई, ये तो बड़ा ही नेक काम किया, मीडिया को इसे दिखाना चाहिये. यही रोल माडल होना चाहिये.

  10. abhi

    बस इन्ही कारणों से मुझे भी चिढ़ है मिडिया से..
    ऐसे लोग सच में रोल-मोडल हो सकते हैं!!
    abhi की हालिया प्रविष्टी..वो लड़की जो खुश रहना जानती थी

  11. rashmi ravija

    ये तो बड़ी अच्छी खबर है..
    ऐसी ख़बरें ज्यादा से ज्यादा लोगों के समक्ष आनी चाहियें…

  12. राहुल सिंह

    हाशिये में सिमट कर रह जाए शायद यह खबर, गैंग रेप को जरूर मुखपृष्‍ठ दिया जाता है.
    इस समाचार की ओर ध्‍यान दिलाया, आपका आभार.
    राहुल सिंह की हालिया प्रविष्टी..कैसा हिन्‍दू… कैसी लक्ष्‍मी!

  13. rachna

    कुछ लोग अपने रास्ते खुद बनाते हैं और उन पर चलते भी हैं
    महिला के साथ रेप की खबर को मीडिया जितना दिखाता हैं अगर ये सब दिखाये तो शायद सही में बदलाव आये . पोस्ट का लिंक नारी ब्लॉग पर प्रसारित कर दिया हैं . खबर जितनो तक पहुचे उतना अच्छा

  14. सलिल वर्मा

    अनूप जी! ऐसे लोग हैं समाज में और पहले भी थे.. मगर आज रोल मॉडल बनने/बनाने के लिए भी विज्ञापन की चमक चाहिए… ऐसे लोग कम हैं जो कहते हैं कि
    हम किये जायेंगे चुप-चाप तुम्हारी पूजा,
    कोई फल दे कि न दे हमको, हमारी पूजा!
    आपके मूड से अलग प्रस्तुति!!
    सलिल वर्मा की हालिया प्रविष्टी..वह आता…

  15. arvind mishra

    सचमुच रोल माडल!
    arvind mishra की हालिया प्रविष्टी..हे मानस के राजहंस क्या भूल गए तुम आने को?(1)

  16. प्राइमरी के मास्साब

    जब ऊट पटांग दिखाने से फुर्सत मिले तब ना ….

  17. आशीष श्रीवास्तव

    TRP के रोल मॉडल अलग होते है …
    ” भूत का फ़ोन ??” आया होता तो जरूर दिखाते …. :)

    शाबाश अच्छेलाल “यथा नाम तथा गुण ”

    आशीष श्रीवास्तव

  18. Shikha Varshney

    अनूप जी! अब यह नेक कार्य भी हम ब्लोगर ही करेंगे. मिडिया से तो किसी भी अच्छी खबर की उम्मीद ही अब नहीं की जा सकती.वह वाकई सैफ के घूंसे या राखी के किस से आगे कोई खबर नहीं देने वाली.
    ऐसे नौजवानों को तो वीरता पुरस्कार मिलना चाहिए आजकल.
    Shikha Varshney की हालिया प्रविष्टी..गुनगुना पानी…

  19. Dr. Monika Sharma

    अच्छा किया आपने इस खबर को हम तक पहुँचाया ……. सच में नई सोच का प्रतिनिधित्व करती खबर है….

  20. वाणी गीत

    ये युवा ही रोंल मॉडल होने चाहिए , यदि रिश्ते को बिना किसी अहसान के निभा पा रहे हों !
    वाणी गीत की हालिया प्रविष्टी..हमारा जमाना , तुम्हारा जमाना ..

  21. amit srivastaava

    प्रशंसीय एवं अनुकरणीय…..
    amit srivastaava की हालिया प्रविष्टी.." खुश करती खुशबू ……"

  22. संतोष त्रिवेदी

    आपकी मेहनत रंग लाई….आज के ‘हिंदुस्तान’ में आपकी पोस्ट आई !

    काश ,मुख्यधारा का तथाकथित मीडिया ऐसी ख़बरों से भी सरोकार रखे !
    अच्छे लाल जैसे युवा का मकसद प्रचार पाना नहीं है जैसा आजकल हमारे नेता और ‘सेलेब्रिटी’ करते हैं !
    संतोष त्रिवेदी की हालिया प्रविष्टी..किताब जो बोलती है !

  23. surendra kumar

    अदभुत सर आच्छेलाल को सलाम और आप को प्रणाम /

  24. Abhishek

    प्रेरक ! जय हो !

  25. डा पवन कुमार मिश्र

    वाकई अच्छेलाल जैसे लोग रोल माडल है जो बिना अपने को मसीहा घोषित किये मानवता के लिये मिसाल बनते है.

  26. Gyandutt Pandey

    बहुत बढ़िया पोस्ट!
    Gyandutt Pandey की हालिया प्रविष्टी..सब्जियां निकलने लगी हैं कछार में

  27. समीर लाल "पुराने जमाने के टिप्पणीकार"

    नेक काम

  28. फ़ुरसतिया-पुराने लेख

    [...] हमारे युवा रोल माडल [...]

  29. he said

    How to apply for search engines google adsense consider my all 3 blogging sites and two websites ?

  30. click here for more

    How to apply for yahoo google adsense keep track of my all 3 information sites and two websites ?

Leave a Reply


8 + = ten

CommentLuv badge
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
Plugin from the creators ofBrindes :: More at PlulzWordpress Plugins