Saving page now... https://hindi.news18.com/news/uttar-pradesh/meerut-video-of-death-of-a-man-went-viral-in-meerut-upum-nsng-nodsr-2802484.html As it appears live September 22, 2020 11:58:33 AM UTC

काला साया और फिर मौत, सोशल मीडिया पर VIRAL VIDEO की चर्चा!
Meerut News in Hindi

काला साया और फिर मौत, सोशल मीडिया पर VIRAL VIDEO की चर्चा!
सीसीटीवी फुटेज वायरल होने के बाद अफवाहों का बाजार गर्म है

एक काला साया और उसके बाद एक अधेड़ व्यक्ति की मौत का वायरल वीडियो (viral video) आजकल मेरठ (Meerut) में चर्चा का विषय बना हुआ है.

  • Share this:
मेरठ. एक काला साया और उसके बाद एक अधेड़ व्यक्ति की मौत का वायरल वीडियो (viral video) आजकल मेरठ (Meerut) में चर्चा का विषय बना हुआ है. दरअसल मेरठ से एक सीसीटीवी फुटेज (CCTV Footage) सामने आई है, जिसमें दावा किया जा रहा है कि काले साए ने एक बुजुर्ग की जान ले ली. वीडियो में एक बुजुर्ग के आसपास एक काला साया घूमते हुए दिख रहा है और जैसे ही ये व्यक्ति इस काले साए को देखता है कुछ ही सेकेंड में उसकी मौत हो जाती है.

दुकानों पर लोगों ने बंद किया ताला
यह 20 जनवरी की घटना मेरठ के परतापुर जुर्रानपुर फाटक के पास गैराज की है. घटना के दो दिन बाद सीसीटीवी कैमरे को चेक किया गया तो उसमें काला साया दिखाई दिया. इस काले साए को लेकर आजकल इस इलाके में हड़कम्प मचा हुआ है और लोगों में तरह तरह की चर्चाएं हैं. परतापुर के गगोल गांव निवासी फिरोज का जुर्रानपुर फाटक के पास गैराज है. फिरोज़ के पिता इरशाद साथ ही काम करते थे. 20 जनवरी को दोपहर तीन बजे इरशाद गैराज के अंदर आ रहे थे, इसी दौरान दिल का दौरा पड़ने से उनकी मौत हो गई. इरशाद की मौत के बाद इलाके के लोग सहमें हुए हैं और यहां की दुकानों पर लोगों ने ताला बंद कर दिया है.

मनोवैज्ञानिक हो सकता है कारण
हालांकि मनोवैज्ञानिक इसे नेक्रोफोबिया (Necrophobia) बीमारी की संज्ञा दे रहे हैं. नेक्रोफोबिया यानि वो अवस्था जिसमें मृत्यु के बाद की चीजों या घटनाओं पर व्यक्ति विश्वास करने लगता है. मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि हो सकता है मृतक नेक्रोफोबिया से ग्रसित हो. मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि फुटेज में दिख रहा व्यक्ति पूरी तरह से स्वस्थ भी नहीं दिख रहा है और साया किसी पक्षी की प्रतीत हो रहा है, लेकिन नेक्रोफोबिया से ग्रसित मरीज इस छाया का आकलन दूसरी तरह से कर सकता है. मौत का कारण जो भी है, लेकिन जरूरत लोगों को जागरुक करने की है जिससे अंधविश्वास को खत्म करके अफवाहों को फैलने से रोका जा सके.



ये भी पढ़ें-मौनी अमावस्या पर सवा करोड़ से ज्यादा श्रद्धालुओं ने संगम में लगाई आस्था की डुबकी...
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज