Saving page now... https://hindi.news18.com/news/uttarakhand/pithoragarh-disaster-keep-coming-in-pithoragarh-a-bike-washed-away-by-angry-stream-in-bangapani-killing-itbp-soldier-ukrd-3203280.html As it appears live September 27, 2020 6:52:09 AM UTC

पिथौरागढ़ में बारिश से आफ़त सिलसिला जारी... बंगापानी में उफने नाले में बही बाइक, ITBP जवान की मौत
Pithoragarh News in Hindi

पिथौरागढ़ में बारिश से आफ़त सिलसिला जारी... बंगापानी में उफने नाले में बही बाइक, ITBP जवान की मौत
ITBP जवान नाले को पार करने की कोशिश कर रहा था, तभी तेज़ पानी दोनों को बाइक समेत बहा ले गया और वह सड़क से नीचे गड्ढे में गिर गए.

बंगापानी तहसील में इस बार बारिश के चलते 22 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि सैकड़ों घर ज़मीदोंज़ हो गए हैं.

  • Share this:
पिथौरागढ़ में बारिश का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है. आपदा प्रभावित बंगापानी तहसील के जौल नाले को पार करने की कोशिश में 2 बाइक सवार पानी के तेज बहाव की चपेट में आ गए. इस हादसे में आईटीबीपी के जवान की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि उसका भाई गंभीर रूप से घायल है. एसडीआरएफ और स्थानीय लोगों ने करीब 2 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद घायल को नाले से निकाला. नाले में फंसी बाइक को भी एसडीआरएफ ने निकाल लिया है.

उफान पर है जौल नाला

स्थानीय लोगों ने बताया कि दोनों बाइक सवार सगे भाई थे और किसी काम से बल्थी गांव से निकले थे. लेकिन जौल नाले को पार नही कर पाए. भारी बारिश के कारण जौल नाला उफान पर है. एक प्रत्यक्षदर्शी हरीश सिंह ने बताया कि जब बाइक चालक नाले को पार करने की कोशिश कर रहा था, तभी तेज़ पानी दोनों को बाइक समेत बहा ले गया और वह सड़क से नीचे गड्ढे में गिर गए.



गड्ढे में पानी और बोल्डर भी थे. गिरने के साथ ही आईटीबीपी के जवान कैलाश जोशी की मौके पर ही मौत हो गई. उनके छोटे भाई अनिल जोशी को 2 घंटे की कोशिशों के बाद एसडीआरएफ और स्थानीय लोगों ने बाहर निकाला. अनिल को भी इस हादसे में गंभीर चोटें आईं हैं. फ़िलहाल उनका इलाज बंगापानी स्वास्थ्य केंद्र में चल रहा है. मृतक के शव को पुलिस ने कब्जे में ले लिया है. शव का पोस्टमार्टम की कार्रवाई की जा रही है.

बंगापानी तहसील में इस बार बारिश मौत बनकर बरस रही है. अब तक यहां 22 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि सैकड़ों घर ज़मीदोंज़ हो गए हैं. यही नहीं इलाके को जोड़ने वाले पुल और सड़कें भी बारिश की भेंट चढ़ गई हैं. सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने इस आसमानी आफ़त को 2013 में केदारनाथ में आई आपदा से भी बड़ी त्रासदी से करार दिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज